Feb 9, 2021
159 Views
0 0

उम्र गुज़री है इल्तिजा करते

Written by

उम्र गुज़री है इल्तिजा करते
क़िस्सा-ए-ग़म लब-आशना करते

जीने वाले तेरे बग़ैर ऐ दोस्त
मर न जाते तो और क्या करते

हाए वो क़हर-ए-सादगी-आमेज़
काश हम फिर उन्हें ख़फ़ा करते

रंग होता कुछ और दुनिया का
शैख़ मेरा अगर कहा करते

आप करते जो एहतराम-ए-बुताँ
बुत-कदे ख़ुद ख़ुदा ख़ुदा करते

रिंद होते जो बा-शुऊर ‘अनवर’
क्या बताऊँ तुम्हें वो क्या करते

‘अनवर’ साबरी

Article Tags:
Article Categories:
Literature

Leave a Reply

%d bloggers like this: