Apr 2, 2021
180 Views
0 0

सरकार ने छोटे छोटे बचतकर्ताओं की तोडी कमर, ब्याज दर हुआ कम

Written by

कोरोना संकट के बीच पहले से ही आर्थिक तंगी झेल रहे आम आदमी को केंद्र सरकार ने एक और झटका दिया है। वित्त मंत्रालय ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए बचत योजनाओं सहित विभिन्न बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में कमी की है। केंद्र सरकार ने छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों को 4 फीसदी से घटाकर 3.5 फीसदी कर दिया है। नई दरें नए वित्त वर्ष के पहले दिन 1 अप्रैल, 2021 को लागू होंगी।

वित्त मंत्रालय ने सार्वजनिक भविष्य निधि (PPF) को खत्म कर दिया है। अब पीपीएफ पर सालाना ब्याज 7 फीसदी से घटकर 6.4 फीसदी हो गया है। यह उल्लेख किया जा सकता है कि 1974 के बाद पहली बार, यानी 47 साल बाद, सरकार पीपीएफ पर कम ब्याज देगी। इसके अलावा, केंद्र ने एक साल की जमा पर ब्याज दरों को 5.4 प्रतिशत से घटाकर 4.4 प्रतिशत और 2 से 5 साल की आवर्ती जमा पर 0.5 प्रतिशत तक घटा दिया है। आवर्ती जमा पर ब्याज अब 5 प्रतिशत से 5.8 प्रतिशत होगा, जो पहले 5.5 से 6.7 प्रतिशत था।

इसके अलावा, केंद्र सरकार ने वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर ब्याज दर को 7.4 प्रतिशत से घटाकर 6.5 प्रतिशत कर दिया है। किसान विकास पत्र अब 6.9 प्रतिशत के बजाय 6.2 प्रतिशत ब्याज अर्जित करेगा। सुकन्या समृद्धि पर ब्याज 7.6 प्रतिशत से घटाकर 6.9 प्रतिशत कर दिया गया है। नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी) अब 6.8 प्रतिशत के बजाय केवल 5.9 प्रतिशत ब्याज अर्जित करेगा। यह एक साल में दूसरी बार है कि छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में कटौती की गई है। हालांकि सरकार ने पिछली 3 तिमाहियों में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। केंद्र सरकार ने 1 साल के टाइम डिपॉजिट पर सबसे बड़ी कटौती की है। ब्याज दरों में 1.1 फीसदी की कमी की गई है।

VR Sunil Gohil

Article Tags:
Article Categories:
Banking and Finance

Leave a Reply

%d bloggers like this: