Apr 26, 2022
37 Views
0 0

अमरेली जिले के छेवाड़ा का एक गांव बोरदी।

Written by

अमरेली जिले के छेवाड़ा का एक गाँव बोरदी। आठ पुस्तकों का अध्ययन करने वाले किसान मधुभाई सावलिया ने तरबूज की खेती से करोड़ों की उपज प्राप्त की और अन्य किसानों को अपनी खेती करने के लिए प्रेरित किया। अमरेली जिला एक कृषि आधारित जिला है। मधुभाई, एक किसान हैं बोरदी गांव ने 55 एकड़ में पहली बार तरबूज की खेती की है। बड़ी मात्रा में तरबूज का उत्पादन किया गया है। किसान मधुभाई को 35 से 40 टन उपज मिल रही है।तरबूज की खेती एक उच्च तकनीक की खेती है। किसान ने रुपये खर्च किए हैं। करी से 1.5 से 2 करोड़ रुपये का उत्पादन हो रहा है। मधुभाई पिछले 20 वर्षों से सब्जियों की खेती कर रहे हैं। तरबूज की खेती को देखकर अन्य किसानों को नई गति मिली है। इस क्षेत्र के किसान बाजरे के छोले सहित मुख्य कपास की खेती नहीं कर रहे हैं लेकिन जब किसानों को उचित उत्पादन नहीं मिल रहा है तो तरबूज की यह खेती अन्य किसानों के लिए प्रेरणा बन गई है।

Article Tags:
· ·
Article Categories:
Agriculture · Education

Leave a Reply