Jan 22, 2021
188 Views
0 0

इबादत करूँगी

Written by

उन्हें देखकर जब इबादत करूँगी ।
तभी तख़्त-ए-क़ल्ब राहत करूँगी ।

अभी बैठ माँ-बाप के पास में फ़िर
ख़ुदा से ख़ुदा की शिकायत करूँगी ।

ग़मो दर्द भी मुस्कुराकर चलेंगे ।
ग़मो दर्द से भी शरारत करूँगी ।

अमीरों को फिर सब भिखारी कहेंगें
खुले जब मिरे दर्द-दौलत करूँगी ।

चुभी सिर्फ़ ये ज़िन्दगी है मुझे तो
मैं तो ज़िन्दगी से बग़ावत करूँगी ।

वैशाली बारड

Article Tags:
Article Categories:
Literature

Leave a Reply

%d bloggers like this: