Jan 16, 2021
233 Views
0 0

कृषि आंदोलन के कारण महीनों से बंद पड़े कंपनी के स्टोर को करोड़ों का नुकसान हुआ है

Written by

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ 50 दिनों तक चलने वाले किसानों के आंदोलन के कारण रिलायंस और वॉलमार्ट सहित कंपनियों के स्टोर को करोड़ों रुपए का नुकसान हो रहा है। आंदोलन के कारण लगभग 3 महीने के लिए स्टोर बंद कर दिए गए हैं। किसान पिछले 50 दिनों से दिल्ली की सीमाओं पर नए कृषि कानून का विरोध कर रहे हैं। आंदोलन की शुरुआत के बाद से, किसान सरकार के साथ-साथ रिलायंस और अदानी जैसे औद्योगिक घरानों से नाराज हैं।

समाचार वेबसाइट रॉयटर्स के अनुसार, पंजाब में अनुमानित 100 रिलायंस इंडस्ट्रीज स्टोर अक्टूबर से बंद कर दिए गए हैं। वॉलमार्ट को भटिंडा में अपने 50,000 वर्ग फुट के होलसेल स्टोर को बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। किसानों का गुस्सा इतना भड़का कि स्टोर संचालक डर गए कि अगर हमने स्टोर खोला तो बर्बरता की जाएगी। स्टोर खोलना उचित नहीं है।

खुदरा उद्योग के करीबी सूत्रों के मुताबिक, पंजाब में रिलायंस के स्टोर बंद करने से कंपनी के करोड़ों रुपये खर्च होने का अनुमान है। देश में वॉलमार्ट के 29 स्टोर हैं, लेकिन माना जाता है कि बठिंडा स्टोर्स बंद होने से वॉलमार्ट को 59 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। डेमोक्रेटिक किसान यूनियन के कुलवंत सिंध संधू का कहना है कि रिलायंस के खिलाफ किसानों का विरोध जारी रहेगा। किसान आंदोलन से जुड़े जगतार सिंह ने कहा कि जब तक सरकार कृषि कानून को वापस नहीं लेती, रिलायंस का विरोध जारी रहेगा। सरकार और किसानों के बीच 9 बैठकें हुईं, लेकिन कोई निर्णय नहीं हुआ। किसानों और सरकार के बीच शुक्रवार को एक बार फिर बैठक हो रही है। सुप्रीम कोर्ट ने किसानों के आंदोलन को सुलझाने के लिए चार सदस्यीय समिति का गठन किया है।

Article Tags:
Article Categories:
Business · Agriculture · Economic

Leave a Reply

%d bloggers like this: