Jan 2, 2021
210 Views
0 0

कोरोना से मरने वाले रोगियों की आत्मा की शांति के लिए सूरत में शांति यज्ञ का आयोजन किया गया

Written by

जैसे-जैसे वर्ष 2020 करीब आता है, कोरोना से सूरत शहर को बचाने के लिए फ्रंटलाइन कोरोना वारियर्स के अथक प्रयासों को भुलाया नहीं जा सकता है। कई कोरोना योद्धा शहरवासियों को स्वस्थ रखने के लिए कोरोना से लड़ते हुए अपनी जान गंवा चुके हैं। शांति यज्ञ सूरत के माध्यम से आने वाला नया साल 2021 शहर और इसके नागरिकों को खुशहाल और समृद्ध बनाने के शुभ इरादे के साथ कोरो महामारी और अन्य बीमारियों से मुक्त हो गया।

नए सिविल अस्पताल के डीन, डॉ। ऋतंभरा मेहता, कोविद नोडल अधिकारी डॉ। विवेक गर्ग, गुजरात नर्सिंग काउंसिल के उपाध्यक्ष इकबाल कादिवाला, नर्सिंग असोक। दिनेश अग्रवाल, सहायक आरएमओ डॉ। विनोद वारलेकर, डॉक्टरों, नर्सिंग स्टाफ, सुरक्षा गार्ड, सफाईकर्मियों की उपस्थिति में शांति यज्ञ का आयोजन किया गया। शांति यज्ञ में, कोविद -19 की महामारी के उन्मूलन के लिए श्रीफल होमी की प्रार्थना की गई थी।

हर साल लोग 31 दिसंबर को पार्टी और डीजे के नाच गाने के साथ मनाते हैं। तब सूरत में Day निमित डे केयर स्कूल ’के अपंग छात्र हनी रमेशचंद्र संघवी 31 दिसंबर को नए सिविल अस्पताल के मरीजों के साथ पिछले सात वर्षों से मनाते हैं। हनी ने प्रार्थना के साथ यज्ञ में भाग लिया कि कोरो के रोगी इस वर्ष ठीक हो जाएंगे और नए साल में घर लौटेंगे। इस बार सिविल और नर्सिंग एसोसिएशन के कर्मचारियों द्वारा आकाश में गुब्बारे उड़ाकर शांति का संदेश भी दिया गया।

Article Tags:
Article Categories:
Religion · Social

Leave a Reply

%d bloggers like this: