Jan 22, 2021
211 Views
0 0

क्या डायनासोर इंसानों से पहले चाँद तक पहुँच गए थे? एस्टरोईड ने पृथ्वी पर कहर ढाया !

Written by

नील आर्मस्ट्रांग चांद पर पैर रखने वाले पहले व्यक्ति थे, लेकिन उनसे पहले कोई भी वहां नहीं पहुंचा था। माना जाता है कि उनसे 66 मिलियन साल पहले डायनासोर चांद पर पहुंच गए थे। पीटर ब्रेन की 2017 की किताब, द एंड ऑफ द वर्ल्ड में कम से कम अंशों की संभावना व्यक्त की गई है, जो वर्तमान में सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय है। ब्लॉगर मैट ऑस्टिन ने ट्विटर पर किताब के कुछ अंश साझा किए हैं।

माना जाता है कि डायनासोर के विलुप्त होने का कारण पृथ्वी से टकराने वाला एक एस्टरोईड था। किताब में दावा किया गया है कि अगर यह एस्टरोईड पृथ्वी से टकराता है, तो मलबा चंद्रमा तक पहुंच जाएगा। ब्रेनन एक पुरस्कार विजेता विज्ञान पत्रकार हैं। उन्होंने लिखा कि यह एस्टरोईड माउंट एवरेस्ट से भी बड़ा था और किसी भी चमकीली गोली की तुलना में तेजी से पृथ्वी पर आया था। भूभौतिकीविद् मारियो रेबेलडो के अनुसार, एस्टरोईड का वायुमंडलीय दबाव इतना अधिक था कि इसके टकराने से पहले पृथ्वी पर गिरने लगा।

इसमें कहा गया है कि एस्टरोईड इतना बड़ा था कि जब यह वायुमंडल में प्रवेश करता था और धरती पर पूरी तरह से उतरता था तो उसे कोई नुकसान नहीं होता था। ब्रेन कहता है कि एस्टरोईड द्वारा उत्पन्न दबाव ने ऊपर आकाश में हवा के बजाय एक वैक्यूम बनाया। जब हवा इस शून्य को भरने के लिए बहती है, तो पृथ्वी के टुकड़े कक्षा में आगे बढ़ते हैं। ब्रेन ने रिबोलिडो से पूछा कि डायनासोर की हड्डियां चंद्रमा पर हो सकती हैं।

Article Tags:
Article Categories:
Environment & Nature

Leave a Reply

%d bloggers like this: