May 16, 2022
33 Views
0 0

गुजरात के मुख्यमंत्री ने राजकोट में खानाबदोश लोगों के लिए मकान दान किए

Written by

मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल ने कहा है कि खानाबदोश और मुक्ति प्राप्त जातियों सहित वंचित, हाशिए के, अंत्योदय परिवारों को विकास की मुख्यधारा में लाने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी की प्रतिबद्धता को साकार करने में गुजरात सबसे आगे रहेगा।

 

इस संबंध में उन्होंने कहा कि सरकार ऐसी खानाबदोश प्रजातियों को पानी, रोशनी, सड़क और आश्रय, उनके बच्चों को शिक्षा और अन्य ढांचागत सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए हमेशा तैयार है.

 

मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल ने “वागड़ा से व्लाप ​​कॉलोनी” के तहत राजकोट जिले के रामपारा बेट्टी में खानाबदोश और मुक्त जाति के 35 परिवारों को आवास आवंटित किया।

 

राजकोट जिला प्रशासन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में 16 भूखण्ड धारकों को चार्टर एवं 200 से अधिक हितग्राहियों को आवास निर्माण के लिए 50 वर्ग मीटर भूमि दी गयी।

 

राज्य सरकार ने रु. रुपये की सहायता प्रदान करता है।

 

राज्य में 26.4 फीसदी खानाबदोश जातियों के लाभार्थियों को अब तक कुल 110 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है. रु. 1.20 लाख ऐसी सहायता प्रदान की गई है।

 

श्री भूपेंद्र पटेल द्वारा मनाई गई योजना के अनुसार 27 गैस सिलेंडर किट के अलावा रु. 3.50 लाख रुपये की लागत से नवनिर्मित मकानों के साथ-साथ रु. 12.50 लाख रुपये की लागत से बने मकानों को ई-समर्पित किया गया। इसके साथ ही उन्होंने रामपारा बेट्टी में सैनिटरी पैड वितरण करने वाली एक वेंडिंग मशीन और शुद्ध पानी उपलब्ध कराने वाले 50 आरओ का उद्घाटन किया। मशीन का अनावरण भी किया गया।

 

राजकोट जिला प्रभारी एवं शिक्षा मंत्री श्री जीतूभाई वाघन, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री आर.सी. मकवाना, सांसद श्री मोहनभाई कुंदरिया, रामभाई मोकरिया सहित जिले के विधायक एवं पदाधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 

मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र भाई मोदी के मार्गदर्शन और नेतृत्व में सरकार की किसी भी योजना के केंद्र में छोटे से छोटे, सबसे गरीब, वंचित और भीतरी इलाकों के लोगों को आसानी से लाभान्वित करने की योजना होती है।

 

मुख्यमंत्री ने श्री नरेन्द्रभाई के निर्देशन में राज्य सरकार की निरंतर चिंता पर भी विस्तार से बताया कि विशेष रूप से वे जातियां जिनके पास अपना कोई स्थायी निवास नहीं है, उन्हें स्थायी आवास मिल सकता है और उनके बच्चे ऐसे आवास सम्पदा में रहकर अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।

 

श्री भूपेन्द्र पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रभाई ने वर्ष 2006 से इस तरह के आवास एवं निःशुल्क भूमि भूखंड आवंटन योजना की शुरुआत सबसे कम उम्र के मानव को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने के लिए की है। खानाबदोश लोगों को आवास के साथ-साथ सम्मान भी दिया गया है ताकि उन्हें किसी आश्रय में न रहना पड़े

 

उन्होंने इस तरह के आवास आवंटन, छेवाड़ा के लोगों के कल्याण के लिए चार्टर वितरण कार्यक्रमों और उनके लिए कुछ करने के लिए राजकोट जिला प्रशासन को बधाई दी।

 

मुख्यमंत्री ने गरीबों, वंचितों, शोषितों और वंचितों के प्रति प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी की सेवा भावना का उदाहरण दिया और कहा कि वह गरीबों की रक्षा के लिए मुफ्त खाद्यान्न और व्यापक टीकाकरण प्रदान करने के लिए लगातार सिस्टम से आग्रह कर रहे थे ताकि कोई भी न जाए। कोरो महामारी के दौरान भूखे पेट सोना।

 

उन्होंने शिक्षा को राज्य-राष्ट्र के विकास की नींव भी बताया और कहा कि स्थायी आवास सुविधा के प्रावधान के साथ, खानाबदोश परिवारों के बच्चे अब स्थायी शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे।

 

गुजरात के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्रभाई से प्रेरित होकर, यह एक विकास इंजन बन गया है।

 

आवास लाभार्थियों के सुखद भविष्य की कामना करते हुए मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि राज्य सरकार शिक्षा के लिए स्कूल, आवास के लिए सहायता आदि जैसी सुविधाएं प्रदान करने के लिए हमेशा उनके साथ खड़ी रही है।

 

शिक्षा मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री श्री जीतूभाई वाघन ने आज के कार्यक्रम को सामाजिक रूप से उपयोगी और संवेदनशील बताया, लोग मुख्यधारा से जुड़ सकेंगे।

 

शिक्षा मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री ने ऐसे परिवारों के बच्चों की शिक्षा के लिए 200 कमरों का छात्रावास बनाने के लिए जिला प्रशासन को आवश्यक निर्देश भी दिए हैं.

 

सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री श्री आर. सी। मकवाना ने खानाबदोश लोगों के लिए राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई विकास योजना का विवरण प्रस्तुत किया और मुख्यमंत्री ने राज्य में गरीबों और वंचितों के लिए किए गए विकास कार्यों का संक्षिप्त विवरण दिया. मंत्री मकवाना ने वांडरिंग कम्युनिटी सपोर्ट फोरम की गतिविधियों की सराहना की।

 

जिला कलेक्टर श्री अरुण महेश बाबू ने अपने स्वागत भाषण में राजकोट के विभिन्न मुद्दों के समाधान के लिए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के साथ-साथ राजकोट के मंत्री और जिला पंचायत अध्यक्ष का आभार व्यक्त किया.

 

विभिन्न गांवों के सरपंचों ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया. खानाबदोश समुदाय के नेता श्री अजयभाई सोरानी ने रु. मुख्यमंत्री को 51 हजार रुपये का चेक सौंपा गया।

વી.એસ.એસ.એમ. સંસ્થાના અગ્રણી મિત્તલ પટેલે મુખ્યમંત્રીશ્રી આ પ્રસંગે પધાર્યા તે બદલ આ અત્યંત ખુશી સાથે તેમનો આભાર માન્યો હતો. વિચરતી જાતિઓને વસાહત સાથે પાણી, વીજળી મળવાથી બદલ તેઓના જીવનમાં ખુબ મોટો બદલાવ આવી રહ્યો છે અને રાજ્ય સરકારની વિવિધ સહાય માટે તેઓ પાત્રતા ધરાવતા થયા છે તેમ તેમણે ઉમેર્યુ હતું.

 

परिवहन राज्य मंत्री श्री अरविंदभाई रैयानी, सांसद श्री मोहनभाई कुंदरिया और श्री रामभाई मोकरिया, विधायक सर्वेश्री कुंवरजीभाई बावलिया, गोविंदभाई पटेल, लाखाभाई सगठिया, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री भूपतभाई बोदर, जिला भाजपा। अध्यक्ष श्री मनसुखभाई खाचरिया, अपर मुख्य सचिव श्री पंकज जोशी, पुलिस आयुक्त श्री खुर्शीद अहमद, जिला विकास अधिकारी श्री देव चौधरी, रेंज आईजी श्री संदीप कुमार, पुलिस अधीक्षक श्री जयपाल सिंह राठौर, नगर पालिका के प्राथमिक निदेशक श्री धीमंत कुमार व्यास, अपर रेजिडेंट कलेक्टर श्री केबी ठक्कर, अपर कलेक्टर श्री एन.एफ. चौधरी और श्री एन. आर. धधल, प्रांतीय अधिकारी, नेता श्री मनसुखभाई रमानी, श्री नागदानभाई चावड़ा सहित बड़ी संख्या में खानाबदोश लोग शामिल हुए।

Article Tags:
· ·
Article Categories:
National

Leave a Reply