May 16, 2022
19 Views
0 0

गुजरात विश्वकोश ट्रस्ट और गुजराती लेक्सिकॉन के बीच अहमदाबाद में मुख्यमंत्री की उपस्थिति में समझौता ज्ञापन संपन्न हुआ

Written by

अहमदाबाद में गुजरात विश्वकोश ट्रस्ट में मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल की उपस्थिति में गुजरात विश्वकोश और गुजराती लेक्सिकन के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। पूरे हो गए हैं।

 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल ने गुजरात विश्वकोश ट्रस्ट और गुजराती लेक्सिकॉन दोनों को इस पहल के साथ-साथ उनके नेक काम के लिए बधाई दी और कहा कि गुजरात विश्वकोश ट्रस्ट और गुजराती लेक्सिकॉन दोनों ने गुजराती भाषा में सराहनीय और सराहनीय काम किया है।

 

श्री भूपेंद्र पटेल ने आगे कहा कि गुजरात विश्वकोश ट्रस्ट गुजराती भाषा की विकास यात्रा में एक महत्वपूर्ण भागीदार रहा है लेकिन इस तेजी से बदलते समय में आधुनिक तकनीक एक आवश्यकता बन गई है, ऐसे समय में धुआं है।

 

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि रोबोटिक्स-आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसे जटिल विज्ञानों के ज्ञान को गुजराती भाषा में उपलब्ध कराने की परियोजना भी इन दोनों संस्थानों के साथ आयोजित की जा रही है जो मातृभाषा के संरक्षण के लिए भी एक सराहनीय प्रयास है.

 

उन्होंने कहा कि गुजराती लेक्सिकॉन ने भी डिजिटल युग में गुजराती भाषा को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। यूथ कॉर्नर, ब्लॉग, वीडियो और एक्सप्लोर गुजरात जैसे विभिन्न माध्यमों से आज की युवा पीढ़ी और भाषा प्रेमियों को एक मंच पर लाने का प्रयास किया गया है।

 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र भाई मोदी के मार्गदर्शन में राज्य सरकार मातृभाषा और संस्कृति की रक्षा के लिए समर्पित है। उन्होंने कहा कि केवल दो वर्ष पूर्व प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र भाई ने देश में एक क्रांतिकारी शिक्षा नीति लागू की है, जिसमें न केवल मातृभाषा शिक्षा पर बल दिया गया है, बल्कि शिक्षा के माध्यम के रूप में मातृभाषा पर भी जोर दिया गया है।

 

मुख्यमंत्री ने यह भी विश्वास व्यक्त किया कि हम प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी की प्रेरणा से गुजरात में भाषा सेवा की दिशा में काम कर रहे हैं।

 

मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्रभाई पटेल ने आगे कहा कि संस्थाओं और सरकार के सामूहिक प्रयासों से न केवल गुजराती भाषा की गौरवशाली विरासत को संरक्षित किया जाएगा बल्कि भाषा-संस्कृति की उपलब्धि की नई ऊंचाइयों को भी छुआ जाएगा।

 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्रभाई पटेल ने शिक्षाविदों, भाषाविदों और शिक्षण संस्थानों से गुजराती भाषा के साथ-साथ ज्ञान क्षितिज के निरंतर विस्तार के लिए आगे आने का आह्वान किया।

 

इस अवसर पर कविश्री अमर भट्ट की विभिन्न कविताओं को भी प्रस्तुत किया गया।

इस अवसर पर विश्वकोश श्री कुमारपाल, श्री नितिनभाई शुक्ल, श्री प्रकाशभाई भगवती के साथ-साथ गुजराती चंद्रयान फाउंडेशन के ट्रस्टी श्री मुकेशभाई शाह, लेखक और भाषा प्रेमी उपस्थित थे।

Article Tags:
· ·
Article Categories:
Politics

Leave a Reply

%d bloggers like this: