May 30, 2022
27 Views
0 0

गुजरात सरकार के मुख्यमंत्री की उपस्थिति में टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड और फोर्ड इंडिया प्रा। लिमिटेड इस दौरान त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन संपन्न हुआ।

Written by

इतना ही नहीं, फोर्ड इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के वाहन असेंबली प्लांट के सभी कर्मचारी टाटा मोटर्स में शामिल होंगे।

 

फोर्ड इंडिया प्रा. साणंद स्थित संयंत्र में इंजन का उत्पादन जारी रहेगा और इसके लिए टाटा मोटर्स उन्हें पट्टे पर जमीन मुहैया कराएगी।

 

गुजरात सरकार नियमानुसार आवश्यक अनुमतियों के लिए सहायक होगी

 

इसके अलावा पानी, बिजली, एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट जैसी सामान्य सुविधाओं से भी टाटा मोटर्स और फोर्ड इंडिया को इसका इस्तेमाल करने में मदद मिलेगी।

 

मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल के दूरदर्शी दृष्टिकोण और त्वरित निर्णय लेने के परिणामस्वरूप, यह समझौता ज्ञापन सच हो गया है क्योंकि राज्य सरकार ने इस पूरे मुद्दे पर केवल 90 दिनों की छोटी अवधि में सकारात्मक दृष्टिकोण दिखाया है।

 

यहां यह उल्लेख करना उचित होगा कि टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड। फोर्ड साणंद में फोर्ड वाहन निर्माण सुविधा, मशीनरी और उसके सभी कर्मचारियों की सभी भूमि, भवन, संयंत्र को स्वीकार करेगी।

 

प्रस्तावित अधिग्रहण से बड़े पैमाने पर बेरोजगारी की समस्या का भी समाधान होगा

 

गुजरात में इलेक्ट्रिक वाहनों का उत्पादन शुरू होगा और पर्यावरण के अनुकूल हरित गतिशीलता पहल में गुजरात सबसे आगे होगा।

 

टाटा जैसी भारतीय कंपनी द्वारा फोर्ड मोटर्स जैसी विदेशी कंपनी के प्रस्तावित अधिग्रहण के साथ गुजरात एक आत्मनिर्भर भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र भाई मोदी के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में एक और कदम उठाएगा।

 

फोर्ड मोटर्स प्लांट में 305 प्रत्यक्ष कर्मचारी और लगभग 30,000 अप्रत्यक्ष कर्मचारी कार्यरत हैं।

 

प्लांट का बंद होना, जिसके परिणामस्वरूप लगभग 5,000 नौकरियों का नुकसान हुआ है, राज्य सरकार के लिए चिंता का विषय था।

 

साथ ही प्लांट को स्पेयर पार्ट्स की आपूर्ति करने वाली सहायक इकाइयां बंद हो जाएंगी और श्रमिकों के रोजगार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

 

प्रस्तावित अधिग्रहण अब इस मुद्दे का समाधान करेगा

 

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान गुजरात को ऑटो हब बनाने के लिए औद्योगिक नीति-2006 के तहत राज्य सरकार ने मेगा/नवीन परियोजनाओं के लिए समर्थन की घोषणा की थी।

 

राज्य सरकार ने 2011 में मेगा/इनोवेटिव योजना के तहत फोर्ड मोटर्स के साथ एक राज्य समर्थन समझौता (एसएसए) किया।

 

संयंत्र अहमदाबाद जिले के साणंद तालुका में फोर्ड मोटर्स द्वारा शुरू किया गया था

 

कुल 20 एकड़ भूमि में वाहन संयोजन संयंत्र (40 एकड़) और इंजन संयंत्र (110 एकड़) क्षेत्र के अंतर्गत आ गया है।

 

टाटा मोटर्स, इसकी सहायक कंपनी टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड ने औपचारिक रूप से साणंद में फोर्ड कंपनी के संयंत्र का अधिग्रहण करने का प्रस्ताव दिया है। अब प्रस्तावित अधिग्रहण से फोर्ड इंडिया के साणंद प्लांट के कर्मचारियों की बेरोजगारी की समस्या से निजात मिलेगी और स्थानीय लोगों को भी रोजगार के अवसर मिलेंगे।

 

इस संबंध में आज मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र पटेल की उपस्थिति में त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए

 

इस त्रिपक्षीय एमओयू पर उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. राजीव कुमार गुप्ता, शैलेश चंद्रा, एमडी, टाटा मोटर्स, और बालसुंदरम, फोर्ड इंडिया के ट्रांसफॉर्मेशन ऑफिसर और कंट्री हेड।

Article Tags:
· ·
Article Categories:
Business

Leave a Reply