Jan 15, 2021
181 Views
0 0

तुम्हारे साथ…

Written by

दरअसल
मसला यह था की
इक मुद्दत से
मैंने समेटे रखा था ख़ुद को,
और मैं उड़ना चाहती थी,
बहुत दूर तलक
तुम्हारे आसमान में
तुम्हारे साथ…
पर किस्मत देखो
कभी पतंग ना था पास,
तो कभी तुम्हारे तलक पहुंच सके
इतनी डोर ना थी,
कभी वो छत ना मिली जहां से
पहुंच सकती तुम्हारे पास
और इस बार …
पतंग है, डोर है, साथ में मांजा भी
और हाँ छत भी है पर,
वो हवा नहीं…
जो मुझे तुम तक पहुंचा सके !!!

Article Tags:
Article Categories:
Literature

Leave a Reply

%d bloggers like this: