Oct 13, 2020
228 Views
0 0

नीति आयोग ने इंडिया एनर्जी मॉडलिंग फोरम की संचालक संरचना की घोषणा की

Written by

यूएस-इंडिया स्ट्रेटजिक एनर्जी पार्टनरशिप के तहत नीति आयोग और यूनाइटेड स्टेट्स एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) द्वारा 2 जुलाई को इंडिया एनर्जी मॉडलिंग फोरम (आईईएमएफ) के गठन से आगे बढ़ते हुए नीति आयोग ने 8 अक्टूबर को इसकी संचालक संरचना को घोषित कर दिया।

यूएस-इंडिया स्ट्रेटजिक एनर्जी पार्टनरशिप (एसईपी) के सतत विकास स्तंभ के अंग के तौर पर आईईएमएफ का लक्ष्य भारतीय शोधकर्ताओं, ज्ञान संपदा के साझेदारों, थिंक टैंक, राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय सरकारी एजेंसियों और विभागों को मॉडलिंग और दीर्घकालिक ऊर्जा योजना निर्माण से जोड़ना है.

आईईएमएफ की संचालक संरचना में एक अंतर-मंत्रालयी और एक संचालन समिति शामिल है। अंतर-मंत्रालयी समिति की बैठक नीति आयोग द्वारा बुलाई जाएगी और इसके मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) इसकी अध्यक्षता करेंगे। और इसमें पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय; ऊर्जा मंत्रालय; नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा; कोयला; पर्यावरण;  वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे। यह समिति अध्ययन/मॉडलिंग गतिविधियों की समीक्षा करेगी और अनुसंधान को दिशा देने के साथ नए क्षेत्र भी उपलब्ध कराएगी।

संचालन समिति इन प्रतिनिधियों से मिलकर बनेगी:

i. सरकार (वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, नवीन एवं नवीकरण ऊर्जा मंत्रालय, सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय, तकनीक सूचना पूर्वानुमान एवं मूल्यांकन काउंसिल, कोयला संग्रहक संगठन, पेट्रोलियम नियोजन एवं विश्लेषण कोष्ठ, केंद्रीय बिजली प्राधिकरण और नीति आयोग)

ii. उद्योग संगठन (फिक्की एवं सीआईआई)

iii. अकादमिक क्षेत्र (आईआईटी बॉम्बे, अहमदाबाद और दिल्ली)

iv. नीतिगत शोध संस्थान, थिंक टैंक और फंडिंग एजेंसी (प्रयास ऊर्जा समूह, शक्ति सततन ऊर्जा फाउंडेशन, सीईईडब्लू, सीएसटीईपी, आईआरएडी, टीईआरआई, जीआईजेड, डीएफआईडी, डब्लूआरआई, पीएनएनएल, आईआईएएसए)

यह समिति अध्ययन के लिए नीतिगत मुद्दों को छांटेगी और विशिष्ट अध्ययनों/मॉडलिंग अभ्यासों के आधार पर विभिन्न कार्यबल (टास्क फोर्स) का भी गठन कर सकेगी। इस समिति के संयोजक दो साल के लिए रोटेशनल आधार पर चुना जाएगा और अंतर-मंत्रालयी व संचालन समितियों और कार्यकारी समूहों/कार्यबलों के बीच संपर्क के रूप में काम करेगा। पुणे स्थित प्रयास समूह संचालन समिति का पहला संयोजक होगा।

भारत और अमेरिका की ऊर्जा पर दीर्घकालिक स्थायी साझेदारी है। यूएस-इंडिया एसईपी के चार में से एक सतत विकास स्तंभ की अध्यक्षता नीति आयोग और यूएसएआईडी कर रही है। यह स्तंभ भारतीय और अमेरिका के शोधकर्ताओं और निर्णयकर्ताओं को ऊर्जा डेटा प्रबंधन; एनर्जी मॉडलिंग, और कम कार्बन उत्सर्जन वाली प्रौद्योगिकियों को प्रोत्साहन जैसे तीन प्रमुख क्षेत्रों में सहयोग करने के लिए एक साथ जोड़ना हैI आईईएमएफ को ऊर्जा मॉडलिंग के क्षेत्र के तहत शुरू किया गया था। आईईएमएफ को स्टैनफोर्ड एनर्जी मॉडलिंग फ़ोरम और यूरोप के लिए एनर्जी मॉडलिंग प्लेटफ़ॉर्म जैसी ग्लोबल एनर्जी मॉडलिंग फोरम के साथ साझेदारी से श्रेष्ठ कार्य व्यवहार साझा होने और सीखने की उम्मीद है.

Article Tags:
·
Article Categories:
Environment & Nature · Economic · Social

Leave a Reply

%d bloggers like this: