Jun 7, 2022
26 Views
0 0

पर्यावरण संरक्षण के लिए गुजरात प्रदूषण बोर्ड द्वारा की गई पहल का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री श्री

Written by

मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल ने विश्व पर्यावरण दिवस के अपने राज्य स्तरीय समारोह में स्पष्ट रूप से कहा है कि यह दिन हमारे अतीत को देखने और वर्तमान स्थिति के उपाय करके पर्यावरण के अनुकूल के उज्ज्वल भविष्य का मार्ग प्रशस्त करने का अवसर है। . उन्होंने लोगों से अपील की कि वे समय की मांगों को समझें और पृथ्वी पर रहने के लिए सभी के अधिकार की रक्षा करें और पृथ्वी को जितना हो सके कम से कम नुकसान पहुंचाने की सामाजिक जिम्मेदारी को पूरा करें।

 

 

 

 

आज अहमदाबाद में एक समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी के दूरदर्शी नेता जहाज ने देश में पर्यावरण के संरक्षण की दिशा में एक नया कदम उठाया है और देश को भूमि सुधार की एक नई दिशा दी है। और प्राकृतिक खेती के माध्यम से मानव स्वास्थ्य। प्रधान मंत्री ने 2070 तक भारत को शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन वाला देश बनाने के लिए ग्लासगो में जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में अपना दृढ़ संकल्प व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इसे हासिल करने के लिए प्रधानमंत्री का लक्ष्य 2030 तक गैर-जीवाश्म ऊर्जा क्षमता को 500 गीगावाट तक बढ़ाना और कुल ऊर्जा आवश्यकता का 50 प्रतिशत अक्षय ऊर्जा स्रोतों से प्राप्त करना है।

 

 

 

 

गुजरात भी प्रधानमंत्री के संकल्प को पूरा करने में अपना पूरा योगदान देने के लिए तैयार है और राज्य के उद्योगों के सहयोग से और गुजरात पर्यावरण के अनुकूल औद्योगिक विकास में अग्रणी है। श्री भूपेन्द्र पटेल ने प्रदेश के औद्योगिक घरानों से प्रदूषण को रोककर पर्यावरण के विकास में भाग लेने का भी अनुरोध किया और स्पष्ट रूप से कहा कि सरकार पर्यावरण को बचाने के प्रयासों में औद्योगिक घरानों के साथ है और मुख्यमंत्री के लिए दरवाजा खुला है या उनके उचित प्रतिनिधित्व के लिए पर्यावरण मंत्री।

 

 

 

 

उल्लेखनीय है कि इस अवसर पर गुजरात प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से कुछ पहल की गई है। तदनुसार, जीपीसीबी द्वारा अनुमानित लागत रु. साबरमती, महिसागर, तापी, दमनगंगा नदियों और कांकरिया, थोल झील में 2 करोड़ रुपये की लागत से रियल टाइम ऑनलाइन वाटर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन स्थापित करने का काम चल रहा है। इससे नदी-झील के पानी की गुणवत्ता की रीयल-टाइम निगरानी और इसमें सुधार के लिए विशिष्ट कदम उठाए जा सकेंगे।

 

 

 

 

बोर्ड को कम जनशक्ति के साथ अधिक कुशल और पारदर्शी तरीके से प्रदूषण को नियंत्रित करने में सक्षम बनाने के लिए निगरानी, ​​जांच, चेतावनियों – अद्यतनों के साथ एक मंच पर विभिन्न प्लेटफार्मों पर ऑनलाइन निगरानी की वास्तविक समय की जानकारी लाना। 2 करोड़ रुपये की लागत से सेंट्रल कमांड एंड कंट्रोल-सिक्योर सेंटर की योजना बनाई गई है, ताकि तुलनात्मक ग्राफिकल डेटाबेस से अनुसंधान और विकास में भी तेजी लाई जा सके। इसके अलावा बोर्ड द्वारा वीएलटीएस- (व्हीकल लोकेशन ट्रैकिंग सिस्टम) लागू किया गया है। इस प्रणाली के निकट लूप के माध्यम से खतरनाक अपशिष्ट प्रबंधन की निगरानी की जा सकती है।

 

 

 

 

GPCB द्वारा शुरू की गई हेल्प डेस्क प्रणाली को समय बीतने के साथ नया रूप दिया गया है। कानूनी और साथ ही सरकारी नियमों पर मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए 10 से अधिक औद्योगिक संघों में राज्य कक्षों द्वारा हेल्प डेस्क भी स्थापित किए गए हैं। जिसमें बोर्ड के अधिकारी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मार्गदर्शन करेंगे। इससे उद्योग के मुद्दों के समाधान में तेजी आएगी।स्थानीय स्तर पर, जीपीसीबी ने उद्योग के मुद्दों के साथ-साथ समाधान के लिए राज्य के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों में हर महीने के तीसरे बुधवार को दोपहर 3 से 6 बजे तक ओपन हाउस प्लानिंग की घोषणा की है।

 

 

 

 

GPCB ने साइट चयन के लिए उद्योगों को होने वाली असुविधा को समाप्त करने और अन्य विभागों के मानदंडों के साथ सामंजस्य स्थापित करने के लिए “GPCB के दृष्टि मानदंड” की घोषणा की है। इससे उद्यमी जमीन में निवेश करने से पहले सही निर्णय लेने में सक्षम होंगे।

 

 

 

 

वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री श्री जगदीशभाई विश्वकर्मा ने कहा कि पर्यावरण दिवस “केवल एक पृथ्वी” थीम के साथ मनाया जा रहा है। गुजरात को देश के केवल चार राज्यों में से एक अलग “जलवायु परिवर्तन” विभाग शुरू करने का श्रेय दिया जाता है।

 

 

 

 

मंत्री श्री ए ने आगे कहा कि केवल 5 जून को ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ के रूप में मनाना ही काफी नहीं है। हम केवल भौतिक सुविधाओं के बारे में सोचते हैं लेकिन पर्यावरण के संरक्षण के बारे में नहीं। उन्होंने कहा, “पर्यावरण की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है क्योंकि आज दुनिया में मनाए जाने वाले विभिन्न ‘दिनों’ का उत्सव प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से  पर्यावरण दिवस’ से जुड़ा हुआ है।”

 

 

 

 

अनाज उत्पादन प्रक्रिया का उल्लेख करते हुए मंत्री श्री ए ने कहा कि एक अनुमान के अनुसार 1 किलो गेहूं पकाने में लगभग 500 लीटर पानी खर्च होता है। तब हम इसे वहन नहीं कर पाएंगे। वहीं, बिजली की बचत, ईंधन की बचत जैसे अभियान समय की मांग हैं। उन्होंने कहा कि आने वाली पीढ़ी को ‘स्वस्थ वातावरण’ प्रदान करना हमारा नैतिक कर्तव्य है, लेकिन यह समय की बात है कि विदेशी संस्कृति को अपनाने के बजाय हमारी परंपराओं को आगे बढ़ाया जाए।

 

 

 

 

वन एवं पर्यावरण विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री अरुण कुमार सोलंकी ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि उद्योग और पर्यावरण के बीच संतुलन बनाए रखने के लिए राज्य सरकार बहुत अच्छा काम कर रही है. इस बात को पूरी दुनिया ने स्वीकार किया है। उन्होंने कहा कि राज्य का वन एवं पर्यावरण विभाग इस दिशा में प्रतिबद्ध है।

 

 

 

 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री एवं गणमान्य व्यक्तियों को प्लास्टिक कचरे के संग्रहण एवं निस्तारण के अभियान में सक्रिय योगदान के लिए मुख्यमंत्री एवं गणमान्य व्यक्तियों द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

 

 

 

 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र पटेल ने परिसर में वृक्षारोपण किया।

 

 

 

इस अवसर पर अहमदाबाद के मेयर श्री किरीट कुमार परमार, विधायक श्री अरविंदभाई पटेल, अहमदाबाद नगर आयुक्त श्री लोचन शेहरा, जीपीसीबी के अध्यक्ष श्री आरबी बराड, भारतीय संघ श्री कांतिभाई पटेल, गुजरात चैंबर ऑफ कॉमर्स श्री हेमंत शाह, उद्योगपति और वरिष्ठ पर्यावरण इंजीनियर, अग्रदूत मौजूद थे।

Article Tags:
·
Article Categories:
Social

Leave a Reply