Jun 7, 2022
21 Views
0 0

ब्रिटेन में सोमवार से शुरू होगा 4 डे वर्किंग का ट्रायल

Written by

 

ब्रिटेन में सोमवार से फोर डे वर्किंग का ट्रायल प्रारम्भ होने जा रहा है. काम करने के ढंग में परिवर्तन को लेकर ये दुनिया का सबसे बड़ा पायलट प्रोजेक्ट है. ये प्रोजेक्ट 6 महीने तक चलेगा जिसमें लगभग 70 कंपनियां शामिल हो रही है. ट्रायल के दौरान, एम्प्लॉइज भले ही 4 दिन काम करेंगे, लेकिन उन्हें सैलरी पूरी मिलेगी. यानी काम के 80% घंटों के लिए 100% सैलरी मिलेगी. इस ट्रायल का मकसद एम्प्लॉइज को अधिक प्रोडक्टिव बनाना है.

 

 

 

 

 

इस एक्सपेरिमेंट को ऑक्सफोर्ड और कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के स्कॉलर के साथ ही अमेरिका में बोस्टन कॉलेज के एक्सपर्ट थिंक टैंक ऑटोनॉमी के साथ पार्टनरशिप में मैनेज करेंगे. सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कंपनीज से लेकर लोकल शॉप इसमें शामिल हो रहे हैं. इस प्रोजेक्ट के चीफ रिसर्चर और बोस्टन कॉलेज में इकोनॉमिस्ट और सोशियोलॉजिस्ट जूलियट शोर ने कहा, यूके का ट्रायल ऐतिहासिक है. इसमें 70 कंपनियों के करीब 3000 कर्मचारी शामिल होंगे.

 

पुराने उपायों पर चिपके रहने का कोई मतलब नहीं

जूलियट ने कहा, 5-डे वीक के साथ परेशानी यह है कि मौजूद समय के हिसाब से काम को एक्सपेंड किया जा सकता है. सदियों पुराने इस ​​टाइम-बेस्ड सिस्टम से चिपके रहने का कोई मतलब नहीं है. उन्होंन कहा, आप कई वर्कप्लेसेज में 80% टाइम में 100% प्रोडक्टिव हो सकते हैं, और पूरे विश्व में इसे अपनाने वाली कंपनियों ने यह दिखाया है. हालांकि रिसर्चर ने ये भी माना कि यह आइडिया हेल्थ केयर जैसे पेशे को सूट नहीं करेगा.

 

 

4-डे वीक के बाद से प्रोडक्टिविटी में इजाफा

एक्सेटर में एक छोटी कंस्ट्रक्शन रिक्रूटमेंट फर्म गर्लिंग जोन्स ने जनवरी में 4-डे वीक की आरंभ की है. ये फर्म इस पायलट प्रोजेक्ट में भी शामिल है. कंपनी के फाउंडर साइमन गर्लिंग ने बोला कि 4-डे वीक के बाद से प्रोडक्टिवीटी में वृद्धि हुआ है जिससे प्रॉफिट भी बढ़ा है. उन्होंने कहा, ‘हमारे सभी इनपुट – कॉल, मीटिंग, इंटरव्यू, ऊपर हैं … काफी आसानी से हर कोई कम समय में अधिक काम कर रहा है.’

 

 

4-डे वीक से एम्प्लॉइज काफी खुश

4-डे वीक से एम्प्लॉइज भी खुश हैं. कंपनी की एक एम्प्लॉई एलेन एंड्रियासन ने बोला कि वह अपने ऑफ का इस्तेमाल आराम करने के लिए करती हैं. उन्होंने कहा, ‘मैं निश्चित रूप से अधिक मोटिवेटेड हूं. इससे मेरी नींद में भी काफी अधिक सुधार आया है. उनके कलीग जोश कॉकरिल ने बोला कि वह अपनी बेटी के साथ अधिक समय बिता पा रहे हैं. इससे उन्हें नर्सरी फीस पर पैसे बचाने में सहायता मिल रही है.

 

 

Article Tags:
·
Article Categories:
Economic

Leave a Reply