Jun 26, 2022
15 Views
0 0

मिशलिन को यात्री कार टायर श्रेणी के लिए भारत की पहली फ्‍यूल एफिशिएंसी 5 स्‍टार रेटिंग प्राप्‍त हुई

Written by

मिशलिन लैटिट्यूड स्‍पोर्ट 3 और मिशलिन पायलट स्‍पोर्ट 4 एसयूवी को ब्‍यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी (बीईई) द्वारा 5 स्‍टार रेटिंग से प्रमाणित किया गया

 

विश्‍व की अग्रणी सस्‍टेनेबल मोबिलिटी कंपनी मिशलिन भारत के यात्री वाहन वर्ग में पहला टायर ब्राण्‍ड बन गई है, जिसे भारत सरकार द्वारा नये पेश किये गये स्‍टार लेबलिंग प्रोग्राम से मान्‍यता प्राप्‍त हुई है। मिशलिन लैटिट्यूड स्‍पोर्ट 3 और मिशलिन पायलट स्‍पोर्ट 4 एसयूवी टायरों को 5 स्‍टार रेटिंग मिलना अपने भारतीय ग्राहकों के लिये विश्‍व की सर्वश्रेष्‍ठ स्‍थायी प्रौद्योगिकी और अत्‍याधुनिक उत्‍पादों की पेशकश करने के लिये मिशलिन की प्रतिबद्धता का असली प्रमाण है। मिशलिन हाल ही में भारत में पहला ब्राण्‍ड बना था, जिसे अपने भारत में निर्मित वाणिज्यिक वाहन टायर मिशलिन एक्‍स® मल्‍टी एनर्जी जेड के लिये ब्‍यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी (बीईई) से 4 स्‍टार रेटिंग प्राप्‍त हुई थी।

 

भारतीय क्षेत्र के लिये कॉ‍मर्शियल डायरेक्‍टर, बी2सी, मनीष पांडे ने कहा, “मिशलिन में हमारा मानना है कि परिवहन के भविष्‍य के लिये इसे तेजी से पर्यावरण के अनुकूल, दक्ष, सुरक्षित और सुलभ बनाना होगा। अभी हाल ही में अपने वाणिज्यिक वाहन टायर को पहला 4-स्‍टार लेबल मिलने के बाद हम भारत में अपने सबसे ज्‍यादा लोकप्रिय दो यात्री कार टायर-लाइंस को भारत की पहली 5 स्‍टार रेटिंग मिलने पर उत्‍साहित हैं। यह पहली 5 स्‍टार रेटिंग हमारे ग्राहकों के बीच हमारे ब्राण्‍ड का भरोसा बढ़ाएगी और वे ऐसे टायर चुनने की सहूलियत पाएंगे, जो ईंधन की बचत करते हैं, सुरक्षित हैं और देश में कार्बन फुटप्रिंट को कम करने में योगदान देते हैं। हम अपने भारतीय ग्राहकों के लिये सबसे आधुनिक टेक्‍नोलॉजी की पेशकश करते हुए बेहद खुश हैं, जो उन्‍हें भारत की सड़कों पर सुरक्षित, सहज और दक्ष रखने के लिये सर्वश्रेष्‍ठ तरीके से तैयार की गई है।”

 

भारत सरकार बुनियादी ढांचे के विकास के लिए लगातार प्रयासरत है और देश में राष्‍ट्रीय राजमार्गों के निर्माण की गति 2020-21 में प्रतिदिन 37 किलोमीटर का रिकॉर्ड छू चुकी है। इन सड़कों को ज्‍यादा सुरक्षित और वाहनों के चलाने को ज्‍यादा क्षमतावान, आरामदायक और विश्‍वास से भरा बनाने के लिये टायर उद्योग ने एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है और उद्योग में ज्‍यादा अभिनव योगदान के निर्माण के लिए लगातार प्रयास किये हैं। हरित परिवहन की दिशा में सुगमता से बढ़ने के लिये विद्युत मंत्रालय और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा तैयार की गई एक महत्‍वाकांक्षी रूपरेखा के तहत अंतिम अधिसूचना 2021 में प्रकाशित हुई थी, जिसमें प्रस्‍ताव था कि कारों, बसों और ट्रकों के टायर ऑटोमोटिव इंडस्‍ट्री स्‍टैण्‍डर्ड्स (एआईएस) के स्‍टेज-1 पर आधारित बीईई शेड्यूल में स्‍पष्‍ट किये गये रोलिंग रेसिस्‍टेन्‍स और वेट ग्रिप की आवश्‍यताएं पूरी करते हों। इस प्रक्रिया में मिशलिन इंडिया उन पहले ब्राण्‍ड्स में से एक है, जो वाणिज्यिक वाहन और यात्री कार, दोनों सेगमेंट के लिये रजिस्‍टर हुआ है और फिर मिशलिन लैटिट्यूड स्‍पोर्ट 3 और पायलट स्‍पोर्ट 4 एसयूवी टायरों को भारत की पहली 5 स्‍टार रेटिंग मिली है।

 

नये नियमों के अनुसार, भारत में बिकने वाले सभी टायरों को प्रदर्शन और सुरक्षा के महत्‍वपूर्ण मानकों को पूरा करना होगा, जैसे रोलिंग रेसिस्‍टेन्‍स और वेट ग्रिप। जब यह रेगुलेशन अनिवार्य हो जाएगा, तब ट्रक, बस और यात्री कार टायरों के सभी घरेलू और विदेशी निर्माताओं और आयातकों को भारत में बेचे जाने वाले टायरों पर बीईई स्‍टार लेबल लगाना होगा।

 

मिशलिन लैटिट्यूड स्‍पोर्ट 3 मिशलिन की वैश्विक लाइन-अप के लैटिट्यूड ऑन-रोड एसयूवी टायरों का तीसरा जनरेशन है। यह टायर सेगमेंट में सबसे बढ़िया ड्राइविंग का अनुभव, ईंधन की खपत के मामले में बेहतर प्रदर्शन और हर प्रकार के क्षेत्रों में बेहतरीन पकड़ देने के लिये अनूठे ढंग से डिजाइन किये गये हैं। यह गीली सड़कों पर न्‍यूनतम रोल रेसिस्‍टेन्‍स के साथ बेहतर पकड़ देता है, जिससे ईंधन की बचत होती है। इस टायर का बेजोड़ डिजाइन ब्रेक लगाने या एक्‍सीलरेट करते समय उच्‍च स्‍तर की सहजता और अधिकतम टॉर्क ट्रांसफर देता है, जिससे स्‍टीयरिंग की सटीकता बेहतर होती है।

 

मिशलिन पायलट स्‍पोर्ट 4 एसयूवी टायर उच्‍च-स्‍तर के प्रदर्शन वाला प्रीमियम एसयूवी टायर हैं, जिसे ड्राइविंग का असीमित आनंद देने, लंबे समय तक चलने, ब्रेकिंग के मामले में अच्‍छे प्रदर्शन और गतिशील संचालन के लिये विकसित किया गया है। पायलट स्‍पोर्ट 4 एसयूवी टायर सूखी और गीली सड़क पर ब्रेकिंग के मामले में अपने जैसों से बेहतर प्रदर्शन करता है और ब्रेकिंग की दूरी को कम रखता है। इसके अलावा, यह टायर बेहतर रोल रेसिस्‍टेन्‍स देता है, जिससे ईंधन की बचत और सुरक्षा बढ़ती है।

 

स्‍टार लेबलिंग के मापदंड:

एआईएस विभिन्‍न पहलूओं पर टायरों का स्‍टार लेबलिंग टेस्‍ट करता है, जैसे रोलिंग रेसिस्‍टेन्‍स का परीक्षण, कोएफिशिएंट और वेट ग्रिप इंडेक्‍स। रोलिंग रेसिस्‍टेन्‍स कोएफिशिएंट टेस्‍ट टायर के लोड से रोलिंग के अनुपात पर होता है। इसके विपरीत, वेट ग्रिप इंडेक्‍स टेस्‍ट भाग लेने वाले टायर के प्रदर्शन और मानक उदाहरण वाले टेस्‍ट टायर के प्रदर्शन के बीच अनुपात के मापदंडों पर होता है। हर टेस्‍ट में स्‍टार रेटिंग के हर बैण्‍ड की न्‍यूनतम सीमा-रेखा हासिल होनी चाहिये। 5 स्‍टार कैटेगरी में 0 किलोग्राम/टन की निम्‍न सीमा और 8 किलोग्राम/टन की उच्‍च सीमा होती है।

 

ईंधन की बचत का प्रभाव और 5-स्‍टार का महत्‍व:

एक 5 स्‍टार टायर अपने से कम स्‍टार वाले टायर की तुलना में 9.5% कम ईंधन की खपत करता है, जिससे ग्रीनहाउस गैस का उत्‍सर्जन भी कम होता है, जो वैश्विक ताप का एक महत्‍वपूर्ण कारण है। जब आप 5-स्‍टार से कम रेटिंग वाले टायर की जगह 5-स्‍टार टायर लेते हैं, तब औसतन 750 किलोग्राम Co2 का कम उत्‍सर्जन होगा। चूंकि दुनियाभर में ईंधन के दाम अस्थिर रहते हैं, इसलिये उपभोक्‍ता 5-स्‍टार रे‍टेड टायर को चुनकर अच्‍छा-खासा पैसा भी बचा सकते हैं।

 

 

Article Tags:
· ·
Article Categories:
Business · Vehicles

Leave a Reply