Apr 27, 2022
54 Views
0 0

मिशलिन बना ब्‍यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी (बीईई) की एनर्जी लेबलिंग पाने वाला भारत का पहला टायर ब्रांड

Written by

दुनिया की प्रमुख मोबिलिटी कंपनी मिशलिन भारत सरकार के हाल में पेश किए गए स्‍टार लेबलिंग प्रोग्राम से मान्‍यता पाने वाला देश का पहला टायर ब्रांड बन गया है। इस लेबलिंग प्रोग्राम का लक्ष्‍य संवहनीयता और टायरों के लिए नए प्रदर्शन-मापदंडों में सुधार करना है।

 

मिशलिन एक्‍स® मल्‍टी एनर्जी जेड टायर को ब्‍यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी (बीईई) द्वारा 4-स्‍टार रेटिंग के साथ उद्योग का पहला ईंधन बचत करने वाला लेबल प्रदान किया गया है। ट्यूबलेस ट्रक टायर और बस टायर 295/80आर22.5 एक्‍स® मल्‍टी एनर्जी जेड टायर को मिशलिन ने भारत में अभिकल्पित और निर्मित किया है। यह टायर ईंधन पर शानदार बचत की पेशकश करते हैं, विभिन्‍न रि-ट्रीड्स के साथ लंबे समय तक चलते हैं और भारतीय सड़कों पर सुरक्षा प्रदान करते हैं। कुशल 4-स्‍टार रेटिंग वाले ये टायर ईंधन में और 8%* तक की बचत का वादा करते हैं।

 

फ्रेट परिवहन की दक्षता भारत की बढ़ती अर्थव्‍यवस्‍था की महत्‍वपूर्ण रीढ़ है और यह सरकार की विभिन्‍न पहलों के फायदों को महसूस करने में आवश्‍यक भूमिका निभाएगी। हरित परिवहन की दिशा में बेहद आसानी से रुख करने के लिए सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने एक महत्‍वाकांक्षी रोडमैप बनाया था। इसके तहत एक मसौदा अधिसूचना 2021 में जारी की गई थी जिसमें ऑटोमोटिव इंडस्‍ट्री स्‍टैण्‍डर्ड्स (एआइएस) के दूसरे चरण में उल्लिखित कारों, बसों एवं ट्रकों के टायरों को रोलिंग रेजिस्‍टेंस, वेट ग्रिप और रोलिंग राउंड उत्‍सर्जन संबंधी जरूरतों को पूरा करने का प्रस्‍ताव रखा गया है। इस प्रक्रिया के अंतर्गत, मिशलिन इंडिया ब्रांड को पंजीकृत करने के लिए पहले ब्रांड में से एक है और फिर इसे मिशलिन एक्‍स® मल्‍टी एनर्जी जेड के लिए 4 स्‍टार रेटिंग प्रदान की गई।

 

 

मिशलिन इंडिया के चेन्‍नई प्‍लांट में एक्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर, श्री रंगनाथन भूवराहमूर्ति, ने कहा कि, “टायरों के प्रदर्शन और ईंधन दक्षता मापदंडों की पेशकश एवं मानकीकरण भारतीय ऑटोमोटिव उद्योग के लिए एक ऐतिहासिक उपलब्धि है और हम इस पहल के लिए भारत सरकार को बधाईयां देना चाहते हैं। नवाचार के हमारे संपूर्ण इतिहास में उच्‍च प्रदर्शन एवं ईंधन-दक्षत टायरों के चैंपियन होने के नाते, हमें अपने भारत में निर्मित टायर के लिए पहली स्‍टार लेबलिंग पाकर खुशी हो रही है। किसी भी मेड इन इंडिया टायर के लिए यह पहली 4 स्‍टार रेटिंग नवाचार और उत्‍पादन दोनो में मिशलिन के नेतृत्‍व को मजबूती देती है। भारत में, हम अपने ग्राहकों को सर्वोत्‍तम उत्‍पाद देने के लिए समर्पित हैं जिन्‍हें मिशलिन की सबसे अत्‍याधुनिक वैश्विक तकनीकों के साथ और देश की ड्राइविंग संबधी स्थितियों के अनुसार विशिष्‍ट रूप से बनाया गया है।”

 

देवेन्‍दर सिंह, कॉमर्शियल डायरेक्‍टर बी2बी, मिशलिन इंडिया ने कहा, “किसी भी फ्‍लीट मालिक के लिए ईंधन एक महत्‍वपूर्ण लागत है और ईंधन की घटती-बढ़ती कीमतें हाल के समय में चिंता का प्रमुख विषय है। मिशलिन एक्‍स® मल्‍टी एनर्जी जेड के लिए पहली 4 स्‍टार रेटिंग फ्‍लीट ग्राहकों के साथ हमारे लिए शानदार अवसर प्रस्‍तुत करता है जोकि पर्यावरण वं स्‍वामित्‍व की कुल लागत को लेकर सजग रहते हैं। स्‍टार लेबलिंग की पेशकश के साथ, ग्राहक अब ड्राइविंग के लिए अपनी जरूरत के मुताबिक सबसे उपयुक्‍त टायरों का चुनाव करने के लिए बेहतर स्थिति में होंगे। इसके साथ ही वे अपने वाहनों को ईंधन-क्षम और सुरक्षित रखने में भी सक्षम होंगे। भारतीय सड़क पर ज्‍यादा से ज्‍यादा सर्टिफाइड लो रोलिंग रेजिस्‍टेंस टायर भारतीय फ्‍लीट्स के लिए ईंधन में बेहतर बचत को बढ़ावा देंगे और देश में CO2 उत्‍सर्जन में कमी लेकर आएंगे।”

नए नियमों में यह अनिवार्य किया जाएगा कि भारत में बेचे जाने वाले सभी टायर प्रदर्शन एवं सुरक्षा संबंधी महत्‍वपूर्ण मापदंडों को पूरा करते हों। इसमें रोलिंग रेजिस्‍टेंस, वेट ग्रिप (गीली सड़कों में पकड़ बनाने की क्षमता), और रोलिंग साउंड एमिशन शामिल हैं। ऑटोमोबाइल्‍स, बसों एवं भारी वाहनों के लिए घरेलू और विदेशी टायर निर्माताओं और आयातकों को निश्चित रूप से प्रस्‍तावित अनिवार्य मापदंडों का पालन करना होगा। ये मापदंड 2023 से लागू होंगे।

 

 

Article Tags:
Article Categories:
Technology

Leave a Reply