May 6, 2022
35 Views
0 0

मेडिका ने ब्लैडर कैंसर जागरूकता महीने के दौरान अपने हेमाट्यूरिया क्लिनिक का उद्घाटन किया

Written by

इस वर्ष के मूत्राशय कैंसर जागरूकता महीने में, मेडिका ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स, पूर्वी भारत की सबसे बड़ी निजी अस्पताल श्रृंखला, कोलकाता में अपनी प्रमुख सुविधा मेडिका सुपरस्पेशलिटी अस्पताल में, 4 मई, 2022 को एक समर्पित हेमाट्यूरिया क्लिनिक का शुभारंभ किया ताकि पेशाब में खून (हेमाट्यूरिया) आने की वजह का पता लगाया जा सके और समय पर इलाज हो सके। पेशाब में आने वाला खून यानी हेमाट्यूरिया ब्लैडर कैंसर का संकेत भी हो सकता है। हेमाट्यूरिया के स्रोत के शीघ्र निदान और शीघ्र उपचार में सहायता के लिए ये क्लिनिक अब दोपहर 3 बजे से शाम 5 बजे (सोमवार-शुक्रवार) तक चालू रहेगा।

 

मूत्र में रक्त को कभी-कभी खाली आंखों से देखा जा सकता है, जिसे दृश्यमान हेमाट्यूरिया के रूप में जाना जाता है, और अक्सर ‘डिपस्टिक टेस्ट’ (एक मूत्र परीक्षण पट्टी) का उपयोग मूत्र में रक्त का पता लगाने के लिए किया जाता है, जिसे गैर-दृश्यमान हेमाट्यूरिया कहा जाता है। हालांकि कुछ स्थितियों में मूत्र में रक्त प्रवाह अहानिकर हो सकता है, ये कई बार बड़ी स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत भी हो सकता है। चिकित्सकों के अनुसार, बिना किसी परेशानी के पेशाब में खून आना, पेशाब के रास्ते में जलन या पेट में दर्द होना, यूरिनरी ट्रैक्ट में कैंसर या ट्यूमर का संकेत हो सकता है। नतीजतन, रुक-रुक कर होने वाले रक्तस्राव की एक बूंद का भी निदान किया जाना चाहिए क्योंकि यह कैंसर का लक्षण हो सकता है।

 

मूत्र में रक्त (हेमाट्यूरिया) की उच्च दर 60 वर्ष से ज़्यादा उम्र के व्यक्तियों और धूम्रपान के वर्तमान या इतिहास वाले लोगों में मौजूद है। हेमाट्यूरिया में, गुर्दे या मूत्र पथ के अन्य भाग रक्त कोशिकाओं को मूत्र में रिसने देते हैं। मूत्र मार्ग में संक्रमण, गुर्दे में संक्रमण, मूत्राशय या गुर्दे की पथरी, बढ़े हुए प्रोस्टेट और कैंसर सभी रिसाव के कारण हैं।

 

क्लिनिक के शुभारंभ के बारे में बात करते हुए, डॉ. अभय कुमार, प्रमुख यूरोलॉजी, सर्जिकल ऑन्कोलॉजी, रोबोटिक सर्जरी, मेडिका सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, ने कहा कि “हमारी यूरो-ऑन्कोलॉजी ओपीडी में, सबसे आम कैंसर ब्लैडर कैंसर है, जो सभी यूरोलॉजिकल कैंसर का लगभग 40% है।

 

भारत की जनसंख्या-आधारित कैंसर रजिस्ट्री (PBCR) के मुताबिक़, मूत्राशय का कैंसर पश्चिम बंगाल में धूम्रपान की उच्च आवृत्ति के कारण प्रमुख कैंसर में से एक है। ज़्यादातर मामलों में, मूत्र में रक्त की उपेक्षा केवल इसलिए की जाती है क्योंकि रक्तस्राव अपने आप बंद हो जाता है और कुछ दिनों के बाद फिर से शुरू हो जाता है। इसलिए, मूत्र में लाल/गुलाबी या कोला रंग के रक्त की एक बूंद की भी उपेक्षा नहीं करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। मूत्र पथ के कैंसर से इंकार करने के लिए इसका मूल्यांकन फ़ौरन किया जाना चाहिए। मूत्र में रक्त (हेमाट्यूरिया) का समय पर निदान रोग को अधिक उन्नत या लाइलाज अवस्था में बढ़ने से रोक सकता है। वन-स्टॉप सॉल्यूशन सेंटर होने के नाते, हम मूत्राशय के कैंसर से पीड़ित रोगियों और रेडिकल सिस्टेक्टोमी, नियोब्लैडर सर्जरी और रोबोटिक ब्लैडर कैंसर सर्जरी जैसी जटिल सर्जरी से गुज़रने वाले रोगियों को उन्नत और व्यापक उपचार प्रदान करने में विश्वास करते हैं।

 

मेडिका हमेशा जागरूकता बढ़ाने और एक कल्याणकारी समाज को बढ़ावा देने के लिए एक समाधान बनाने में विश्वास करती है। मेडिका के लिए स्वास्थ्य का रखरखाव और सुधार पूरे समय चिंता का केंद्र रहा है।

 

ब्लैडर कैंसर के बारे में जागरूकता क्यों बढ़ाएं?

 

– पश्चिम बंगाल भारत के प्रमुख ब्लैडर कैंसर राज्यों में से एक है

 

– इनवेसिव ब्लैडर कैंसर हर साल वैश्विक स्तर पर 430,000 लोगों को प्रभावित करता है

 

– दुनिया में लगभग 2.7 मिलियन लोग वर्तमान में ब्लैडर कैंसर के साथ जी रहे हैं

 

– हेमट्यूरिया के इलाज में दीर्घावधि निगरानी सिस्टोस्कोपी और अन्य परीक्षण की आवश्यकता होती है

– जीवित रहने की दर बढ़ाने के लिए शुरुआती पहचान महत्वपूर्ण है – 80 प्रतिशत लोग जीवित रहते हैं अगर उनका निदान जल्दी हो जाता है। प्रारंभिक अवस्था में, 5 साल तक जीवित रहना संभव है।

 

 

Article Tags:
Article Categories:
Medical

Leave a Reply