Feb 25, 2021
206 Views
0 0

मेरा माज़ी मेरे काँधे पर

Written by

अब तमद्दुन की हो जीत के हार
मेरा माज़ी है अभी तक मेरे काँधे पर सवार
आज भी दौड़ के गल्ले में जो मिल जाता हूँ
जाग उठता है मेरे सीने में जंगल कोई
सींग माथे पे उभर आते हैं
पड़ता रहता है मेरे माज़ी का साया मुझ पर
दौर-ए-ख़ूँख्वारी से गुज़रा हूँ छिपाऊँ क्यों पर
दाँत सब खून में डूबे नज़र आते हैं

जिनसे मेरा न कोई बैर न प्यार
उनपे करता हूँ मैं वार
उनका करता हूँ शिकार
और भरता हूँ जहन्नुम अपना
पेट ही पेट मेरा जिस्म है, दिल है न दिमाग़
कितने अवतार बढ़े लेकर हथेली पे चिराग़
देखते रह गए धो पाए नहीं माजी के ये दाग़

मल लिया माथे पे तहज़ीब का ग़ाज़ा, लेकिन
बरबरियत का जो है दाग़ वोह छूटा ही नहीं
गाँव आबाद किए शहर बसाए हमने
रिश्ता जंगल से जो अपना है वो टूटा ही नहीं

जब किसी मोड़ पर खोल कर उड़ता है गुबार
और नज़र आता है उसमें कोई मासूम शिकार
जाने क्यों हो जाता है सर पे इक जुनूँ सवार

किसी झाडी के उलझ के जो कभी टूटी थी
वही दुम फिर से निकल आती है
लहराती है

अपनी टाँगो में दबा के जिसे भरता हूँ ज़क़न्द
इतना गिर जाता हूँ सदियों में हुआ जितना बुलन्द

कैफ़ी आज़मी

Article Tags:
Article Categories:
Literature

Leave a Reply

%d bloggers like this: