Jun 14, 2022
7 Views
0 0

स्ट्रॉबेरी मून: जानिए क्या, कब और कहां देखना है सुपरमून

Written by

जून खगोलीय घटनाओं से भरा हुआ है। यदि आपने पहले से ही एक सीधी रेखा में एकत्रित पांच ग्रहों की दुर्लभ स्थिति देखी है, तो एक और शानदार दृश्य के लिए तैयार हो जाइए- ‘स्ट्राबेरी मून’। इसे सुपर मून भी कहा जाता है।

 

इस साल पहला स्ट्रॉबेरी मून 14 जून को दिखाई देगा। हैरानी की बात यह है कि ‘स्ट्राबेरी मून’ एक स्ट्रॉबेरी जैसा नहीं है! नासा के अनुसार, यह नाम अमेरिका और कनाडा की अल्गोंक्विन जनजातियों से लिया गया है, जिन्होंने इस क्षेत्र में भरपूर मात्रा में पाए जाने वाले पौधे के नाम पर पूर्णिमा का नाम रखा।

‘स्ट्राबेरी मून’ को मीड मून या हनी मून के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि साल के इस महीने में शहद की कटाई की जाती है। यह हनीमून शब्द से भी संबंधित है, जो जून में बड़े पैमाने पर होती शादियों से जुड़ा है।

 

भारत में जून में इस दिन इसे एक हिंदू त्योहार वट पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। उत्तरी और पश्चिमी भारतीय राज्यों महाराष्ट्र, गोवा और गुजरात में यह त्योहार विवाहित महिलाओं द्वारा बहुत धूमधाम से मनाया जाता है।

 

सावित्री और सत्यवान की कथा के अनुसार, इसी दिन धर्मनिष्ठ पत्नी ने यमराज से अपने पति को नया जीवन दिलाया था। इसलिए वट पूर्णिमा पर सावित्री की पूजा की जाती है। इस दिन विवाहित महिलाएं व्रत रखती हैं और अपने जीवनसाथी की लंबी उम्र की कामना करती हैं।

 

14 जून को पूर्णिमा लगभग 5:22 बजे चरम पर होगी। चांद रात भर रूप नहीं बदलेगा, और आप इसे अगली रात भी देख सकते हैं।

 

आइए जानते हैं अगली पूर्णिमा के बारे में

2BD4CCB Full Pink Moon April 2020 Supermoon Easter

चंद्र वर्ष के 354 दिनों में ग्रेगोरियन कैलेंडर में 12 पूर्ण चंद्रमा शामिल होते हैं। केवल कभी-कभी 365-दिवसीय ग्रेगोरियन वर्ष का परिणाम एक अतिरिक्त पूर्णिमा में होता है, लेकिन 2022 में ऐसा नहीं है।

 

अगली पूर्णिमा जुलाई 2022 में दिखाई देगी। बक मून के नाम से जानी जाने वाली यह पूर्णिमा दोपहर 2:37 बजे चरम पर होगी।

Article Tags:
·
Article Categories:
Economic

Leave a Reply

%d bloggers like this: