Jan 18, 2021
231 Views
0 0

हरडे के फायदे

Written by

हरडे त्रिफला चूर्ण से बनी एक जड़ी बूटी है जिसे जड़ी-बूटियों के रूप में भी जाना जाता है। अगर रोज खाया जाए तो हरडे से विभिन्न समस्याओं से छुटकारा दिलाता है। जिन लोगों को कब्ज होता है वे इसका सेवन अधिक करता है। हरडे खाने से भी पेट साफ होता है और कब्ज में भी राहत मिलती है। गैस की समस्या से भी राहत मिलती है। यदि हरडे का सेवन किया जाता है, तो कई रोग जड़ से मिट जाते है। हरडे पेट को साफ करता है और पाचन तंत्र को बेहतर बनाता है और इसे सक्रिय करता है। इसके अलावा, यह जड़ी बूटी शरीर को डिटॉक्स करने और वजन कम करने के लिए भी साबित होती है। वजन कम करने के लिए हरडे का नियमित सेवन करने से वजन कम हो सकता है। पाचन में सहायक होने के साथ-साथ यह गैस, एसिडिटी और कई अन्य समस्याओं से भी छुटकारा दिलाता है और आपको धीरे-धीरे वजन कम करने में मदद करता है।

जब आपको दांत में दर्द होता है, तो टूथपेस्ट बनाकर अपने दांतों पर लगाने से दांत दर्द से राहत मिलती है और ऐसा करने से सभी दंत रोगों से राहत मिलेगी। पतले छाछ में हरड़ के पेस्ट को घिसकर मसूड़ों पर लगाने से मसूड़ों की सूजन दूर होती है और दांत दर्द से भी राहत मिलती है।

जो लोग कब्ज से पीड़ित हैं, उनके लिए हरडे आशीर्वाद है। कब्ज से छुटकारा पाने के लिए, हरडे के पेस्ट को थोड़े से नमक और आधा ग्राम लौंग और दालचीनी के साथ खाएं। आज की दुनिया में लगभग सभी लोग कब्ज से पीड़ित हैं। कब्ज की समस्या में हरड पाउडर बहुत फायदेमंद है। इस पाउडर में एक चुटकी नमक मिलाएं और इसका सेवन करें। आप खुद अंतर देख पाएंगे।
यदि आपको कोई त्वचा की एलर्जी है, तो हरड़ का काढ़ा मुंहासों का इलाज है। इसके लिए हरडे के फल को पानी में उबालकर काढ़ा बना लें और इस काढ़े को दिन में दो बार नियमित रूप से लेने से आपकी त्वचा की ऊर्जा को बहुत जल्दी आराम मिलता है।

आंखों की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आंखों के पास हाथों से धीरे से पेस्ट लगाया जाता है और इसके खाने से आंखों में चमक भी बढ़ती है। और सूजन से राहत दिलाता है।

हरड़ का सेवन पाचन से राहत देता है। इसके लिए खाने से पहले हरड़ पाउडर में अदरक मिलाकर खाने से भूख अच्छी तरह से खुल जाती है और भूख लगने लगती है। वहीं, अदरक, गुड़ या सिंधव नमक मिलाकर खाने से पाचन में सुधार होता है।

Article Tags:
Article Categories:
Healthcare

Leave a Reply

%d bloggers like this: