Jan 22, 2021
232 Views
0 0

जीएसटीएन वेबसाइट पर साइबर हमला, आठ घंटे नेटवर्क व्यवधान सेवाएं, पूरा विवरण जानें

Written by

गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) वेबसाइट साइबर हमले के कारण गुरुवार को दो घंटे से अधिक समय तक बाधित रही। जीएसटीएन नेटवर्क की वेबसाइट के विघटन के कारण, करदाता विभिन्न सेवाओं से वंचित हो गए, जिसमें करों को दर्ज करने और रिटर्न दाखिल करने में सक्षम नहीं होना शामिल है।

जीएसटी लागू होने के बाद केंद्र सरकार के करोड़ों करदाताओं के डेटा की गोपनीयता के बारे में क्या सुरक्षित नहीं है? इस तरह के सवाल पर चर्चा की जा रही है। साइबर हमले ने जीएसटी की वेबसाइट को हैक कर लिया है और इससे कई समस्याएं पैदा हो सकती हैं क्योंकि कई करदाताओं के ‘डेटा’ बदल गए हैं।

सूत्रों के मुताबिक, जीएसटीएन वेबसाइट गुरुवार सुबह करीब 10:30 बजे दुर्घटनाग्रस्त हो गई और देर शाम तक वेबसाइट को बहाल नहीं किया गया। गुजरात सहित पूरे देश के लाखों व्यापारी पंजीकरण के लिए जीएसटी रिटर्न दाखिल करते हैं और आवश्यक दस्तावेज जमा करते हैं।

यदि सरकार की अपनी वेबसाइट सुरक्षित नहीं है, तो व्यापारियों के डेटा की गोपनीयता के बारे में क्या? ऐसा सवाल खड़ा हो गया है। इस तरह, सरकारी वेबसाइट की हैकिंग से व्यापारियों के डेटा की चोरी, करदाताओं के डेटा के साथ छेड़छाड़, पूर्ण कर का भुगतान करने वाले व्यापारी, रिटर्न दाखिल करना, कर राशि का ‘बकाया ’होना और विभागीय जांच सौंपना हो सकता है। आदि। इसके लिए कौन जिम्मेदार है?

पंजीकरण संख्या केवल तभी दी जाती है, जब व्यापारी जीएसटी पंजीकरण जारी करने के लिए पैन, आधार कार्ड, बैंक खाते आदि सहित दस्तावेज जमा करते हैं।

Article Tags:
Article Categories:
Business · Economic

Leave a Reply

%d bloggers like this: