Feb 15, 2021
160 Views
0 0

बच्चों को क्यों नहीं करना चाहिए लाड़-प्यार ? इसका क्या प्रभाव पड़ता है ?

Written by

सभी माता-पिता अपने बच्चों से प्यार करते हैं। इसलिए वे अपने बच्चों को बहुत लाड़ प्यार करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपके बच्चे को कितना लाड़-प्यार मिलना चाहिए। जानें कि इस पर चाणक्य का क्या कहना है।

चाणक्य ने सभी को बहुत अच्छे से समझाया है कि बच्चों को कैसे लाड़-प्यार करना चाहिए। कितना लाड़?
चाणक्य के अनुसार, जो बच्चे को अधिक लाड़ प्यार करते हैं, वे अच्छे इंसान नही बन सकते हैं। उन लोगों में बहुत अपराध होते है। और जो बच्चा लाड़ प्यार नहीं करता है, वह लोगों में गुण विकसित होते है। उसी समय, यदि आपका बच्चा कुछ गलत करता है, तो उसे लाड़ प्यार करने के बजाय दंडित किया जाना चाहिए। इसी से उन्हें अपनी गलती का एहसास होता है। बहुत ज्यादा लाड़-प्यार करने वाले अपनी गलती पर छाया डालते हैं।

अब हम समझ सकते है कि बच्चों को लाड़ करने पर क्या प्रभाव होता है। जब वे अपराध करते हैं तो उनके साथ क्या किया जाना चाहिए।

VR Niti Sejpal

Article Tags:
Article Categories:
Literature

Leave a Reply

%d bloggers like this: