Aug 6, 2022
4 Views
0 0

आजादी का अमृत महोत्‍सव

Written by

भारत की आजादी के 75 वर्ष मनाने के लिए आजादी का अमृत महोत्सव (एकेएएम) के हिस्से के रूप में, भारतीय नौसेना के जहाजों द्वारा हर महाद्वीप (अंटार्कटिका को छोड़कर) में विदेशी बंदरगाहों की स्‍मरणीय यात्राएं की जा रही हैं। विवरण इस प्रकार हैं: –

 

क्रम

 

महाद्वीप

 

विश्राम स्‍थल/देश

 

नौसेना जहाज

 

 

 

 

एशिया

 

मस्कट, ओमान

 

चेन्नई, बेतवा

 

सिंगापुर

 

सरयू

 

 

अफ्रीका

 

मोम्बासा, केन्या

 

त्रिकंद

 

ग.

 

ऑस्ट्रेलिया

 

पर्थ, ऑस्ट्रेलिया

 

सुमेधा

 

घ.

 

उत्तरी अमेरिका

 

सैन डिएगो, यूएसए

सतपुड़ा

 

ड.

 

दक्षिण अमेरिका

 

रियो डी जनेरियो, ब्राजील

 

तरकश

 

च.

 

यूरोप

 

लंदन, यूके

 

तरंगिनी

 

 

 

भारतीय नौसेना के जहाजों की यात्रा के दौरान 15 अगस्त 2022 को भारतीय मिशनों द्वारा इनमें से प्रत्येक बंदरगाह पर विभिन्न गतिविधियों और कार्यक्रमों की योजना बनाई जा रही है। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण प्रवासी भारतीयों और स्‍थानीय प्रतिष्ठित लोगों की उपस्थिति में इन जहाजों पर हमारा तिरंगा फहराना होगा। यह कार्यक्रम छह महाद्वीपों, तीन महासागरों और छह अलग-अलग टाइम जोन में फैला हुआ है।

 

जिन अन्य गतिविधियों की योजना बनाई जा रही है उनमें मेजबान देश के वरिष्ठ नेतृत्व पर भारतीय नौसेना के क्रू द्वारा आधिकारिक कॉल, संबंधित दूतावासों में ध्वजारोहण समारोह में भारतीय नौसेना के दल/गार्ड की भागीदारी, एक प्रमुख सार्वजनिक स्थान/सभागार में बैंड प्रदर्शन, आगंतुकों के लिए खुला जहाज, स्कूली बच्चों/प्रवासी भारतीयों द्वारा दौरा, डेक रिसेप्शन और भारतीय दूतावासों द्वारा आयोजित विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम शामिल हैं।

 

लंदन (यूके) में, आईएनएस तरंगिनी का दल राष्ट्रमंडल स्मारक द्वार पर दो विश्व युद्धों के दौरान सर्वोच्च बलिदान देने वाले भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करेगा। इसी तरह, आईएन जहाज चालक दल/प्रतिनिधिमंडल द्वारा औपचारिक पुष्पांजलि अर्पित की जाएगी। मोम्बासा (केन्या) में, आईएन चालक दल टैटा तवेता क्षेत्र के युद्धक्षेत्र क्षेत्र में एक स्मारक स्तंभ के उद्घाटन में भाग लेंगे जहां भारतीय सैनिकों ने प्रथम विश्व युद्ध के पूर्वी अफ्रीका अभियान के तहत सेवा करते हुए लड़ाई लड़ी और बलिदान दिया। स्‍मरणीय कार्यक्रमों में युद्ध के मैदान के दौरे, एक मोबाइल प्रदर्शनी और फोर्ट जीसस में एक लाइट एंड साउंड शो भी शामिल होगा, जिसमें प्रथम विश्‍व युद्ध-I में भारतीय सैनिकों के योगदान के साथ-साथ स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष पर प्रकाश डाला जाएगा।

 

भारत की स्वतंत्रता का 75वां वर्ष आजादी का अमृत महोत्सव भारत के समुद्री लंगर को पुनर्जीवित करने और फिर से प्रमुख बनाने का अवसर है। इसके लिए, भारतीय नौसेना द्वारा पिछले एक वर्ष में देश और विदेश दोनों में बड़ी संख्या में गतिविधियाँ हाथ में ली गई हैं। वर्ष 2021-22 में स्‍मरणीय जहाज 75 भारतीय बंदरगाहों की यात्रा करेंगे, प्रेजीडेंट फ्लीट रिव्‍यू स्वतंत्रता के 75वें वर्ष के साथ जोड़ा गया है, लोकायन 2022 (समुद्री यात्रा जहाज अभियान), मुंबई में स्मारकीय राष्ट्रीय ध्वज का प्रदर्शन, भारत के सभी तटीय जिलों में सामुदायिक आउटरीच कार्यक्रम, विभिन्न शहरों में स्वतंत्रता दौड़, नौकायन दौड़, पर्वतारोहण/साइकिल अभियान, रक्तदान शिविर, तटीय सफाई के प्रयास, भारत की समृद्ध समुद्री विरासत पर सेमिनार/कार्यक्रम, और वीरता पुरस्कार विजेताओं और युद्ध के दिग्गजों का सम्मान (1947 में या उससे पहले पैदा हुए) कुछ प्रमुख कार्यक्रम हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

Article Categories:
National

Leave a Reply