Dec 23, 2020
399 Views
0 0

सीएम श्री विजय रूपानी ने जना स्मॉल फाईनेंस बैंक की 15 शाखाओं का डिजिटल उद्घाटन किया

Written by

आज गुजरात के मुख्यमंत्री, श्री विजय रूपानी ने जना स्मॉल फाईनेंस की 15 बैंक शाखाओं का डिजिटल उद्घाटन किया। यह बैंक वित्तीय समावेशन लाने के लिए प्रतिबद्ध है और गुजरात में बैंकिंग सेवाओं की कमी वाले ग्राहकों को सेवाएं दे रहा है। यह बैंक 20 सालों से वित्तीय समावेशन के सेगमेंट को सेवाएं दे रहा है और अब एक शेड्यूल्ड कमर्शियल बैंक में परिवर्तित होने के बाद विस्तृत प्रोडक्ट रेंज पर फोकस कर रहा है।

एस्सेट केंद्रों का बैंक शाखाओं के रूप में उद्घाटन करने के साथ, गुजरात में जना बैंक का नेटवर्क 63 तक पहुंच गया है और पूरे भारत में 600 केंद्र तक है। गुजरात इस बैंक की मौजूदगी वाले 22 राज्यों की सूची में सर्वोच्च 3 राज्यों में है। ‘पैसे की कदर’ के वादे पर खरा उतरते हुए, जना बैंक ग्राहकों के मेहनत के पैसे का महत्व समझता है और ग्रामीण भारत में अपना विस्तार करने के लिए तैयार है।

जना स्मॉल फाईनेंस बैंक ने गुजरात में 2012 में अपना सफर शुरू किया और यह राज्य में 10 लाख से ज्यादा ग्राहकों को सेवाएं दे चुका है, जिनमें से अधिकांश महिलाएं हैं। यह बैंक ग्रुप लोन मॉडल के तहत महिलाओं को अनसिक्योर्ड लोन और छोटे व्यवसायों को व्यक्तिगत लोन देता है। ग्रुप लोन मॉडल के तहत लोन का औसत आकार 39,000 रु. है और छोटे व्यवसायों को व्यक्तिगत लोन के तहत यह 60,000 रु. है। यह बैंक कृषि लोन, एमएसएमई लोन, गोल्ड लोन, किफायती होम लोन एवं होम इंप्रूवमेंट लोन भी देता है। एस्सेट केंद्रों को बैंक शाखाओं में बदलने के साथ हमारे ग्राहक अब बैंकिंग प्रोडक्ट, जैसे सेविंग्स अकाउंट, करेंट अकाउंट, फिक्स्ड डिपॉज़िट, रिकरिंग डिपॉज़िट, ओडी खाता प्राप्त कर सकेंगे।

इस घोषणा पर श्री अजय कंवल, एमडी एवं सीईओ, जना स्मॉल फाईनेंस बैंक, ने कहा, ‘‘हमारे बैंकर्स के अपार उत्साह एवं ग्राहकों के भरोसे के साथ हमें कोविड के दौरान भी नई शाखाएं खोलने की सामर्थ्य मिली। गुजरात में हमारी सभी नई शाखाओं में ना ही सिर्फ बेस्ट-इन-क्लास प्रोडक्ट उपलब्ध हैं, बल्कि सभी सेवाएं डिजिटल भी हैं।’’

15 शाखाओं का उद्घाटन करते हुए, मुख्य अतिथि, श्री विजय रूपानी, माननीय मुख्यमंत्री, गुजरात सरकार ने जना स्मॉल फाईनेंस बैंक, इसके कर्मचारियों और गुजरात के नागरिकों को बधाई दी। उन्होंने कहा, ‘‘जना स्मॉल फाईनेंस बैंक सुविधाओं से वंचित व बैंकिंग सेवाओं की कमी वाले लोगों के लिए एक ‘बड़ा बैंक’ है। यह उन लोगों को बैंकिंग सेवाएं देता है, जिनके पास आय के औपचारिक दस्तावेज, जैसे आईटीआर, जीएसटी आदि नहीं। माननीय प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी के ‘आत्मनिर्भर भारत’ को सफल करने व भारत को 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनाने के लिए इन नागरिकों को वित्तीय सामर्थ्य प्रदान करना बहुत आवश्यक है। मैं राज्य सरकार की ओर से बैंक को वित्तीय समावेशन के अपने प्रयास में पूरा सहयोग देने का आश्वासन देता हूँ।’’ उन्होंने जना बैंक के बैंक मैनेजर/स्टाफ के बैंकिंग सेवाओं की कमी वाले ग्राहकों के साथ संबंधों के महत्व पर भी रोशनी डाली।

जना स्मॉल फाईनेंस बैंक एक शेड्यूल्ड कमर्शियल बैंक है, जो 22 राज्यों में 15,000 कर्मचारियों और 40 लाख से ज्यादा ग्राहकों के साथ काम करता है।

Article Tags:
·
Article Categories:
Banking and Finance

Leave a Reply