Dec 28, 2021
104 Views
0 0

सूरत में साहित्यिक ग्रुप “हार्ट ऑफ लिटरेचर” की और से एक नई शरुआत की गई

Written by

2021 के अंतिम रविवार को सूरत में साहित्यिक ग्रुप “हार्ट ऑफ लिटरेचर” की और से एक नई शरुआत की गई। एक ही मंच से तकरीबन 60 लेखको एवम कवियो की दो पुस्तके “परिवर्तन”और “शब्द उत्सव” का विमोचन किया गया।

इस मौके पे आई टी कंसल्टेंट एवम विज़न इंकॉर्प के स्थापक श्री बिज़न रावल तथा गुजरात के आदरणीय लेखक पद्मश्री देवेंद्र भाई पटेल के सुपुत्र सलिल भाई पटेल उपस्थित रहे। कटार लेखक सलिल भाई संदेश वर्तमान पत्र में “लौकिक-अलौकिक” एवम “हार्ट ऑफ लिटरेचर” वेबसाइट पर “पार लौकिक दुनिया” नामक कॉलम चलाते है। यह पुस्तक विमोचन और पारितोषिक वितरण समारोह में मुख्य अतिथियो के हाथ से विविध स्पर्धाओं के विजेताओं को मेडल एवं सर्टिफिकेट से सम्मानित किया गया।

“परिवर्तन” पुस्तक का संपादन मुम्बई में स्थित शिक्षिका “चेतना भाटिया” द्वारा किया गया है। इसका विषय है, कोरोना काल के बाद हमारे जीवन मे आए परिवर्तन, आपकी नजर से।

हार्ट ऑफ लिटरेचर परिवार के स्थापक आदित शाह के बताए अनुसार “शब्द उत्सव” पुस्तक से हार्ट ऑफ लिटरेचर ग्रुप ने खुद एक पब्लिकेशन हाउस बनने की और कदम बढ़ाए है। इस मौके पे साल के दौरान गुजरात के कई नामी साहित्यकारों ने हमारे बीच से विदाई ली उनको श्रद्धाजंलि के रूपमे आदित शाह द्वारा ह्र्दयस्थ खलील धनतेजवी साहब की ग़ज़ल का पठन किया गया।

हार्ट ऑफ लिटरेचर एक साहित्यिक ग्रुप है जो ई-मीडिया एवं प्रिंट मीडिया में कार्यरत है। नवोदित लेखको और कवियो को एक मंच प्रदान करता है। गद्य और पद्य स्पर्धाओं के आयोजन से नवोदितों के साहित्य को सँवारा जाता है। उपरांत, कोरोना काल मे फूड पैकेट्स का वितरण करने जैसी सामाजिक सेवाओ में भी कार्यरत है।

Article Tags:
Article Categories:
Art and Culture · Entertainment · Literature · National

Leave a Reply

%d bloggers like this: